ब्रिटेन पर मुंबई जैसे हमले की तैयारी

पाकिस्‍तान के अशांत कबायली इलाकों में तकरीबन 20 ब्रिटिश मुस्लिम युवक आतंकी शिविरों में ट्रेनिंग ले रहे हैं। अल कायदा और इससे जुड़े आतंकी संगठनों के शिविर में ट्रेनिंग ले रहे इन युवकों की योजना ब्रिटेन पर ही आतंकवादी हमले करने की है।

‘द टेलीग्राफ’ के मुताबिक ब्रिटिश पासपोर्ट के जरिये पाकिस्‍तानी सीमा क्षेत्र में घुसे इन युवकों को खतरनाक हथियार और विस्‍फोटकों का इस्‍तेमाल करने की ट्रेनिंग दी जा रही है। अखबार ने खुफिया अधिकारियों के हवाले से कहा है कि इन आतंकवादियों का मकसद ब्रिटेन पर मुंबई जैसा आतंकी हमला करने की हो सकती है।

यह खुलासा तब हुआ जब अमेरिकी सेना ने पाकिस्‍तान के उत्‍तरी व दक्षिणी वजीरिस्‍तान के कबायली इलाकों में आतंकियों के ट्रेनिंग कैम्‍प तहस-नहस करने के लिए ड्रोन हमले शुरू किए। अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने सूचना दी थी कि इन इलाकों में अल कायदा कई ऐसे आतंकियों को तैयार कर रहा है जिनका निशाना ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी जैसे देश हैं।

इन आतंकियों की योजना शहरों की प्रमुख सड़कों पर अंधाधुंध गोलीबारी करते हुए किसी महत्‍वपूर्ण इमारत पर हमला करने की है। खुफिया सूत्रों के मुताबिक इन हमलों के निशाने पर वित्‍तीय संस्‍थान रहेंगे जिससे इनका अधिक-से-अधिक असर हो। हालांकि अभी ये आतंकी यूरोपीय देशों में नहीं पहुंचे हैं।

साजिश नाकाम
यूरोपीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक यूरोप के शहरों में पाकिस्तानी आतंकियों द्वारा मुंबई जैसे हमले करने की साजिश को यूरोपीय सुरक्षा एजेंसियों ने नाकाम कर दिया है। पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन ने लंदन और इंग्लैंड के अन्य शहरों के अलावा फ्रांस और जर्मनी को भी निशाना बनाने की साजिश रची थी।

यह भी माना जा रहा है कि पाकिस्तानी आतंकवादी अमरीका द्वारा पिछले एक महीने में किए गए 20 से ज्यादा ड्रोन हमलों का बदला लेने के लिए यूरोप में बड़े हमले करने की फिराक में थे। पिछले हफ्ते फ्रांस की सुरक्षा एजेंसी ने कहा था कि उसे पेरिस के एक सबवे में आत्मघाती हमले की साजिश की भनक लगी थी। यह हमला अल-कायदा के अफ्रीकी विंग की योजना का हिस्सा था। फ्रांस ने कहा था कि यह साजिश बुर्के पर प्रतिबंध से भी जुड़ी हो सकती है। आतंकी हमले के मद्देनजर पेरिस के एफिल टॉवर को खाली करा लिया गया था।

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Did Moscow play fraud on Marx and P.C. Joshi was the The originator ?

Maybe, on P.C. Joshi’s suggestion Syed Sibte Hassan, who had been a close comrade of P.C. Joshi before Independence might have collected all the unsigned material published in the NYDT on the 1857 Revolt, which would not have been very difficult in USA and chosen to arbitrarily attribute its authorship to Karl Marx.

Relying on Iqbal Hussain’s Karl Marx on India (Delhi, 2006), based on his research in USA and following the public pronouncements of Prof. Irfan Habib, I was also led to believe that the process of attributing the authorship to Marx and Engels of the unsigned articles published in the NYDT on the 1857 Revolt must have started in the year 1953. Prof. Iqbal Hussain wrote, “The volume on Britain by Marx and Engels, published from Moscow in 1953, included the article “The Indian Revolt”, published in the Tribune (NYDT) on September 16, 1857, thus bringing to the notice of Indian readers for the first time the fact that Marx had also written on the 1857 Rebellion, the article concerned had been printed in the Tribune without Marx’s name.” (Iqbal Hussain, Karl Marx on India, Delhi, 2006 p. XV).

However, only last week, in the course of my independent investigation, I discovered that the process of attributing these unsigned articles to Marx had begun much earlier and that too, in India itself. In fact, a monthly magazine India Today, started by the former CPI General Secretary P.C. Joshi in May 1951 from Allahabad, had reproduced two unsigned articles on 1857 Revolt from the NYDT and attributed them to Karl Marx in its September 1952 issue, under the title “Marx on Revolt of 1857”. Highlighting the importance of these articles, a caption was printed at the top, Two hitherto undiscovered articles by the founder of Marxism. One of these articles carrying the date line Wednesday, July 15, 1857 was published in the NYDT under the title “Indian Mutiny” on August 4, 1857 and the other one with a dateline London, July 17, 1857 was published on August 14, 1857 under the title, “The Revolt in India.”

Revealing the source of this important discovery, India Today wrote, “A few years back a communist journalist Syed Sibte Hassan (now incarcerated in a Pakistan prison) discovered in USA, some hitherto unknown articles on India by Karl Marx. India Today is very proud to print two of them for the first time in English. We hope to print the rest of the articles in future issues”Ed.”

This promise of publishing the rest of the articles could not be fulfilled because Joshi under strict orders of the Party leadership, had to close down the publication of India Today and the issue of September 1952 turned out to be the last issue. Significantly, this editorial note admits that Syed Sibte Hassan had sent a larger bunch of articles on 1857 Revolt published by the NYDT but nowhere it is mentioned that all these articles were unsigned and many of them were printed as the leading articles without carrying the names of Marx and Engels as their writers. Similarly, it is also not explained as to how Sibte Hassan was able to attribute their authorship to Marx and Engels or was it done by him or by Joshi.

A perusal of the file of total eleven issues of India Today, which P.C. Joshi was able to bring out, testifies to his keen interest in the 1857 Revolt. In the November 1951 issue he published an article written by P.M. Kemp-Ashraf (wife of the Communist leader Dr K.M. Ashraf), under the title “Indian Revolt of 1857 and the Early British Labour Movement.” (pp. 25-30). In this article Smt. Ashraf underlined the influence of the Chartist leader Ernest Jones on Karl Marx’s understanding of India. The article says, “Most important of all, in these years he (Jones) had come into direct personal contact with Karl Marx… The articles written by Marx between May and July 1853, published in the NYDT, cover much the same ground and use much the same material as a series of articles published by Jones, partly about the same time and partly earlier. The probable explanation is that Jones, …may have handed over notes or suggested sources to Marx” (India Today, November 1951, p. 27.)

Carrying it further, Joshi in the February-March 1952 issue of India Today, published an article under the title “The Indian Mutiny” written by Satinder Singh, who has been introduced as a young journalist working for the Akali paper Spokesman in Delhi (India Today, February-March 1952, pp. 48-56). The same Satinder Singh, under the pseudonym of Talmiz Khaldun had contributed an elaborated version of the above mentioned article under the title “The Great Rebellion” (pp. 1-70) in the Rebellion-1857: A Symposium edited by P.C. Joshi and published by the CPI’s official publication outfit “People’s Publishing House” in July 1857. Satinder Singh explaining this shift in the titles of the two articles from “The Indian Mutiny” in 1952 to “The Great Rebellion” in 1957 says in a footnote to the 1952 article, “I use the word “Mutiny” because of the currency it has gained. I do not characterise this event as Mutiny.” (India Today, op.cit. p. 48).

It is evident that P.C. Joshi had an unsual interest in the 1857 uprising and unlike the earlier Communist intellectuals like M.N. Roy and Rajni Palme Dutt, he was keen to project it as a national rebellion or revolt and not as a feudal outburst.

Maybe, on P.C. Joshi’s suggestion Syed Sibte Hassan, who had been a close comrade of P.C. Joshi before Independence, might have collected all the unsigned material published in the NYDT on the 1857 Revolt which would have not been very difficult in USA and chosen to arbitrarily attribute its authorship to Karl Marx.

Curiously, P.C. Joshi in his 1957 publication Rebellion 1857 as well as in the August 1957 special issue of the New Age monthly on 1857, does not refer at all to the articles on 1857 published earlier in his own magazine India Today and also does not mention the name of Syed Sibte Hassan, who had for the first time supplied the unsigned articles on 1857 Revolt published in the NYDT to him. Was it just a loss of memory or could it be a case of a deliberate suppression.

By Devendra Swarup

Posted in Uncategorized | Leave a comment

उनके लिये जो फिदेल कास्त्रो शब्द का रात दिन जाप करते हैं…

फिदेल कास्त्रो क्यूबा की स्वतंत्रता को दबा क्यों रहा है? यदि क्यूबा इतना बड़ा साम्यवादी स्वर्ग है तो हर साल इतने सारे क्यूबा के नागरिक क्यूबा से अमेरिका भागते हुये अपनी जान क्यों गवां रहे हैं

क्यूबा के अन्दर  आजाद मीडिया क्यों नहीं है?  वहां अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता क्यों नहीं है .  जितनी आपको भारत में है उसका सौवां हिस्से तक भी नहीं…..

क्यूबा की आर्थिक दशा अपने पडोसियों की तुलना में इतनी पिछड़ी हुई क्यों है? 1990 के बाद जबसे सोवियत रूस ने इसे खैरात देना बंद किया है इसकी हालत लड़खड़ा क्यों गई है?  क्यूबा में इतनी काला बाजारी क्यों है़?

क्यूबा में कितने मूलभूत मानव अधिकार हैं? कितनी राजनैतिक स्वतंत्रता है?  क्यूबा के नागरिक घोर गरीबी में क्यों जी रहे हैं? इन्हें इतना कम वेतन क्यों मिल रहा है? रोजाना में खाई जाने वाली सामान्य वस्तुओं पर भी राशन क्यों है?

डूबती हुई क्यूबाई इकानामी को किसी और सत्ता परिवर्तन की प्रतीक्षा क्यों है?

सत्ता संभालते समय कास्त्रो ने जनतंत्रीय सरकार का वायदा किया था  चुनाव भी जिसका एक अंग होते, लेकिन  राजनैतिक मंच पर फिदेल कास्त्रो की सरकार इतने सालों से अकेले ठुमके क्यों लगा रही है?  वहां राजनैतिक स्वतंत्रता क्यों नहीं है?

सबसे अन्त में


क्यूबा के निर्वासित नागरिक उसकी मौत की कामना क्यों कर रहे हैं?

Posted in Uncategorized | Leave a comment

अपने दर्प में चूर चूर श्री जगदीश्वर चतुर्वेदी

श्री जगदीश्वर चतुर्वेदी की ब्लॉग पोस्ट खोया आलोचक मिला सैलीबरेटी नामवर सिंह पर मैंने निम्न टिपण्णी की थी

“चतुर्वेदी जी, आप मुझे मानसिक रोग से ग्रस्त व्यक्ति लगते हैं. आप हर एक काम में खोट निकालते हैं, संघ भाजपा और हिन्दू के प्रति आपकी कुत्सित विचारधारा के चलते खुन्नस और दुर्भाव हर लेख में प्रगट होता है, यहाँ तक की आपने नामवर सिंह के प्रति भी अंट शंट उगल डाला क्योंकि उन्होंने आपके द्वारा लिखी गई किसी पुस्तक का कोई नोटिस नहीं लिया. आपकी हालत उस बच्चे जैसी है जो अपनी और ध्यान आकर्षित करने के लिए मचलता चीखता चिल्लाता है, अपने कपडे फाड़ता है, कभी कभी तो अपना सर फोड़ डालता है.

मुझे लगता है की आप बचपन में धनाभाव और अपने साथ पढ़ने वाले पैसे वाले सहपाठियों के कारण बचपन से हीन भावना के शिकार हो गए हैं. आप खुद की अक्ल को दूसरों से सवाया द्योड़ा समझते हैं. आपके दुर्भाग्य से आप शिक्षक के पद पर नियुक्त हुए जिसमें आपके छात्र आपके मुंह पर सच्चाई नहीं कह पाते इससे आपके अन्दर अहंकार और स्वयं के प्रति अधिक ज्ञानी होने की भावना आ गई है.

जबकि वास्तव में आप मानसिक विकार से ग्रस्त हैं. कभी कभी आपको खुद भी यह लगता होगा कि आपको मानसिक रोग है. मुझे विश्वास है की आपके परिवार एवं आपके मित्रों ने भी आपको यह बात कई बार बताई होगी.

इसलिए मेरी सलाह को दुर्भावना पूर्ण न लेकर कृपया आप किसी मानसिक चिकित्सक को स्वयं को दिखाएँ. इससे आपका, आपके परिवार का और समाज का बहुत फ़ायदा होगा. ”

सच्चाई कड़वी होती है.  श्री जगदीश्वर चतुर्वेदी एक सच्ची सलाह को सहन नहीं कर सके.

ये टिप्पणी यहाँ लिख दी ताकि सनद रहे और भविष्य के लिए काम आये.

Posted in Uncategorized | Tagged | 1 Comment